भारत में EV चार्जिंग स्टेशन कैसे खोलें (How to open EV Charging Station in India?)

भारत में EV चार्जिंग स्टेशन कैसे खोलें? (How to open EV Charging Station in India?) 2023

भारत में EV चार्जिंग स्टेशन कैसे खोलें? (How to open EV Charging Station in India?) : भारत में इलेक्ट्रिक वाहनों में लगातार वृद्धि हो रही है। EV की बिक्री को बढ़ाने के लिए भारत सरकार ने EV पर GST 12% से घटाकर 5% कर दी है। आने वाले समय में भारत EV के वाणिज्यिक केन्द्र के रूप में उभर कर सामने आएगा। जिसके फलस्वरूप EV चार्जिंग स्टेशनों की भी बहुत आवश्यकता होगी। केंद्र ने इसके लिए बड़े बड़े शहरों में EV चार्जिंग स्टेशन स्थापित करने के प्रस्ताव दिए हैं। भारत में EV चार्जिंग स्टेशन कैसे खोलें?

भारतीय सड़कों पर वर्तमान में लगभग 3.98 लाख इलेक्ट्रिक वाहन चल रहे हैं।

आंकड़ों से पता चलता है कि EV की बिक्री पिछले साल दुनिया भर में 1.1 मिलियन से बढ़कर 2025 में 11 मिलियन हो जाएगी।

इलेक्ट्रिक वाहनों के विस्तार से चार्जिंग स्टेशनों की माँग बढ़ेगी।

ऑडी Q8 ई-ट्रॉन इलेक्ट्रिक एसयूवी भारत में हुई लॉन्च, जानें कीमत और फीचर्स

 

Table of Contents

भारत में EV चार्जिंग स्टेशन कैसे खोलें? (How to open EV Charging Station in India?) स्टेप बाइ स्टेप गाइड

अभी हमारे देश में EV चार्जिंग स्टेशनों की कमी है। ज़्यादातर ईवी वाहन चालक अपने EVs को अपने घर पर ही चार्ज करते हैं। देश में EV चार्जिंग स्टेशन खोलने वालों के लिए एक सुनहरा अवसर है।

इलेक्ट्रिक वाहन चार्जिंग स्टेशनों के प्रकार

इलेक्ट्रिक वाहनों को चार्ज करने के लिए अपने वाहन को एक चार्जर में प्लग करते हैं जो कि इलेक्ट्रिक मैट्रिक्स से जुड़ा होता है। इसके बावजूद सभी EV चार्जिंग स्टेशन को समकक्षनहीं बनाया गया है।

कुछ EV को केवल एक मानक डिवाइडर आउटलेट से जोड़कर पेश किया जा सकता है, जबकि अन्य को एक कस्टम स्थापना की आवश्यकता होती है। आपके वाहन को चार्ज करने में लगने वाला समय भी आपके द्वारा उपयोग किये जाने वाले चार्जर पर निर्भर करता है।

EV चार्जर आमतौर पर तीन के होते हैं : लेवल 1 चार्जिंग स्टेशन, लेवल 2 चार्जिंग स्टेशन और लेवल 3 ( DC फास्ट चार्जर) चार्जिंग स्टेशन।

लेवल 1 EV चार्जिंग स्टेशन

ये चार्जर 120 V AC प्लग का उपयोग करते हैं और इसे एक मानक पावर स्रोत से जोड़ा जा सकता है। दूसरे चार्जरों की तरह इसे किसी अतिरिक्त गियर की आवश्यकता नहीं होती है।

ये चार्जर आमतौर पर हर घंटे की चार्जिंग में किसी भी EV को  2 से 5 मील दूरी तय करने जितना चार्ज करते हैं। इनका उपयोग ज्यादातर घर पर ही किया जाता है।

लेवल 1 चार्जर सबसे किफायती विकल्प होते हैं।

लेवल 2 EV चार्जिंग स्टेशन

Level 2 चार्जर का उपयोग निजी और व्यावसायिक चार्जिंग स्टेशनों दोनों के लिए किया जाता है।

ये 240 V (निजी के लिए) तथा 208 V (व्यवसाय के लिए) प्लग का उपयोग करते हैं।

इन्हें मानक डिवाइडर आउटलेट से नहीं जोड़ा जा सकता है।

उन्हें सोलर आधारित बोर्ड ढांचे के एक घटक के रूप में पेश किया जा सकता है।

L 2 EV चार्जर प्रत्येक घंटे की चार्जिंग में 10 से 60 मील की दूरी तय करने जितना चार्ज कर देते हैं।

ये चार्जर केवल 2 घंटे में एक इलेक्ट्रिक वाहन को पूरी तरह से चार्ज कर सकते हैं।

जिन्हें जल्दी चार्जिंग की जरूरत होती है उनके लिए लेवल 2 चार्जर एक आदर्श विकल्प हैं।

लेवल 3 चार्जिंग स्टेशन (DC फास्ट चार्जर)

इन्हें CHAdeMO भी कहा जाता है।

ये केवल 20 मिनट की चार्जिंग में आपके इलेक्ट्रिक वाहन को 60 से 100 मील की दूरी तय करने जितना चार्ज कर देते हैं।

DC फास्ट चार्जर का उपयोग आमतौर पर केवल व्यावसायिक और यांत्रिक अनुप्रयोगों के लिए किया जाता है।

उन्हें पेश करने और बनायेरखने के लिए विशेष, शक्तिशाली गियर की आवश्यकता होती है।

DC फास्ट चार्जर का उपयोग सभी इलेक्ट्रिक वाहनों में नहीं किया जा सकता है, क्योंकि अधिकांश मॉड्यूल क्रॉसओवर EV में यह चार्जिंग क्षमता नहीं होती है।

इलेक्ट्रिक वाहन क्या है?

 

भारत में EV चार्जिंग स्टेशन की लागत

भारत में EV चार्जिंग स्टेशन लगाने की लागत  1 लाख रुपये से 40 लाख रुपये तक आती है। सरकार ने स्पष्ट किया है कि कोई भी व्यक्ति पूरे देश में एक इलेक्ट्रिक चार्जिंग स्टेशन लगाने के लिए स्वंत्रत है। इसके लिए आपको सरकार द्वारा जारी आवश्यक गाइडलाइन को ध्यान में रखना है।

यदि आप अपना  EV चार्जिंग स्टेशन लगाने का इरादा रखते हैं तो आपको बस बुनियादी शर्तों का पालन होगा।

सार्वजनिक प्राधिकरण द्वारा निर्धारित नींव के नियमों के अनुसार शहरी क्षेत्रों में प्रत्येक 3 किमी और राजमार्गों पर 25 किमी पर दोनों तरफ एक EV चार्जिंग स्टेशन स्थापित करना अनिवार्य है।

लंबी दूरी तय करने वाले बड़े वाहनों के लिए दो सड़कों (आमतौर पर राजमार्ग) पर प्रत्येक 100 किमी पर एक चार्जिंग स्टेशन होना चाहिए। इसी तरह भारत यांत्रिक वहनों का समर्थन करने के लिए दिल्ली से मुंबई इलेक्ट्रिक एक्सप्रेसवे बनाने की कोशिश कर रहा है।

चार्जर का प्रकार लागत (लगभग)
भारत AC-001 70,000/- रुपये
टाइप 2 AC 1,25,000/- रुपये
भारत DC-001 2,40,000/- रुपये
CCS CHAdeMO 12,50,000/- रुपये

 

अन्य खर्चे

नया बिजली कनेक्शन (250 KV) : 7,50,000

EVSE Management Software + Integration : 40,000

जमीन यदि किराये पर है तो किराया : 6,00,000 प्रतिवर्ष

सामान्य कार्य : 2,50,000

विशेषज्ञ,जनशक्ति, रखरखाव : 3,50,000 प्रतिवर्ष

प्रचार और प्रसार : 50,000

कुल अनुमानित खर्च : 40,00,000 (प्रथम वर्ष व्यस्था सहित और जमीन किराये पर है)

अगले वर्ष से वार्षिक रखरखाव : 10,00,000 (जमीन का किराया सहित)

नोट : यदि आपकी खुद की जमीन है तो जमीन के किराये का खर्चा कम हो जाएगा।

EV चार्जिंग स्टेशन खोलने के लिए आवश्यकताएं

एक ट्रासंफार्मरहोना चाहिए।

मीटर गियर के साथ 33/11 KV केबल होनी चाहिए।

वाहनों के चार्जिंग और प्रवेश/निकास के लिए पर्याप्त जगह होनी चाहिए।

सरकार से  EV चार्जिंग स्टेशन खोलने की परमिशन के सर्टिफिकेट होने चाहिए।

भारत में केवल 1% ही इलेक्ट्रिक वाहन हैं।

जब इनकी तुलना पारंपरिक वाहनों के साथ की जाती है तो EV की पेशकश ऊपर की ओर जा रही है और चार्जिंग स्टेशनों के लिए शर्त हर दिन बढ़ रही है।

इसीलिए EV चार्जिंग स्टेशन लगाने का यह आदर्श अवसर है।

भारत में EV चार्जिंग स्टेशन कैसे खोलें? इसका आईडिया आपको लग गया होगा।

भारत में EV चार्जिंग स्टेशनों की सूची

टाटा पावर

डेल्टा इलेक्ट्रॉनिक्स इंडिया

फोर्टम इंडिया

मास टेक

ब्राइट ब्लू

एग्जिकॉम

पेनासोनिक

एबीबी इंडिया

भारत में EV चार्जिंग स्टेशनों का सुनहरा भविष्य होने के कारण बहुत से निर्माता इलेक्ट्रिक वाहन निर्माण करने के लिए संपर्क कर रहे हैं।

जैसे जैसे इलेक्ट्रिक वाहन बाजार सफल हो रहा है।

इलेक्ट्रिक कार चार्जिंग स्टेशनों की आवश्यकता विकसित हो रही है।

दुनिया में भारत पाँचवा सबसे बड़ा ऑटो बाजार है।

हाल ही में भारत सरकार ने खुलासा किया कि वे 2030 तक एक जबरदस्त परिवहन परिवर्तन की योजना बना रहे हैं।

यानी EV के उपयोग में एक महत्वपूर्ण विस्तार उत्सर्जन और तेल आयात पर निर्भरता को कम करने के लिए।

चूंकि भारत में इलेक्ट्रिक वाहनों का उपयोग लगातार बढ़ रहा है, EV चार्जिंग स्टेशनों की आवश्यकता भी मौलिक है।

भारत में इलेक्ट्रिक वाहनों के लिए सोलर चार्जिंग स्टेशन

सौर ऊर्जा पर आधारित EV चार्जिंग स्टेशन Indian Institute Of Science (IISc) में बनाया गया है।

भारतीय विज्ञान संस्थान (आई आई एससी) में एक सौर फोटोवोल्टिक ईंधन वाले इलेक्ट्रिक वाहन चार्जिंग स्टेशन बनाया गया है।

जीरो आउटफ्लो चार्जिंग हवा की गुणवत्ता में सुधार करता है।

इसको सोलर सेल्स द्वारा फ्यूल किया गया है।

जिसे UK स्थित ग्रीनेंचो लिमिटेड द्वारा एनर्जी सिस्टम कैटापल्ट, UK के इनोवेटिंग फॉर क्लीन एयर (IFCA) प्रोग्राम के तहत बनाया गया है।

चार्जिंग पॉइंट JRD टाटा मेमोरियल लाइब्रेरी के मैदान में स्थित है, जिसमें लाइब्रेरी के हाउस टॉप पर सोलर ओरिएंटेड बोर्ड है।

विक्रम सोलर लिमिटेड ने अपने आसन्न संरचना मॉड्यूल प्रदान किये हैं जबकि इतावली फर्म फेमर ने इन्वर्टर, बैटरी स्टॉकपीलिंग और EV चार्जर दिया है।

DC फास्ट चार्जिंग की सम्पूर्ण जानकारी

AC चार्जिंग सबसे आसान है क्योंकि इसके आउटलेट हर जगह हैं।

घरों, मॉल और कार्यस्थलों में पाए जाने वाले लगभग सभी EV चार्जर level 2 AC चार्जर हैं।

AC चार्जर कार चार्जर को पावर देता है।

यह बैटरी में AC को DC में परिवर्तित करता है।

चार्जर की स्पीड ब्रांड, उसकी लागत, आकार और वजन पर निर्भर करती है।

इसका मतलब यह है कि आपके वाहन को कहीं भी चार्ज करने पर 5 घंटे से 12 घंटे का समय लग सकता है।

DC फास्ट चार्जिंग बैटरी को सीधे DC पावर देती है जिसके कारण चार्जिंग स्पीड बहुत बढ़ जाती है।

चार्जिंग समय  बैटरी के आकार और डिस्पेंसर की शक्ति पर निर्भर करता है।

आधुनिक DC फास्ट चार्जर का उपयोग कर के कई कारों को लगभग एक घंटे या उससे कम समय में 80% तक चार्ज किया जा सकता है।

लंबी दूरी की यात्रा के लिए DC फास्ट चार्जिंग जरूरी है।

तेज चार्जिंग के कारण ड्राइवर को रातभर प्लग इन करने या पूरी तरह से चार्ज होने में घंटों लगने के बजाय दिन के दौरान या थोड़े समय में ही चार्ज किया जा सकता है।

वर्तमान में उत्तरी अमेरिका में 3 प्रकार के DC फास्ट चार्जिंग हैं :

CHAdeMO

CCS No. 40 और CCS No. 41

टेस्ला सुपरचार्जर

DC चार्जर के सभी प्रमुख निर्माता बहु-मानक उपकरणों का प्रयोग करते हैं।

जो एक ही डिवाइस से CCS या CHAdeMO के माध्यम से चार्ज करने का विकल्प प्रदान करते हैं।

टेस्ला सुपरचार्जर केवल टेस्ला वाहनों को चार्ज कर सकता है।

लेकिन टेस्ला वाहन एक एडेप्टर के माध्यम से अन्य चार्जर, विशेष रूप से DC फास्ट चार्जिंग के लिए CHAdeMO से चार्ज हो सकता है।

वर्तमान में मौजूद EV चार्जर प्लग

टाइप 1 चार्जर प्लग

Type 1 प्लग एक सिंगल-फेज प्लग है जो 7.4 kW (230 V, 32 A) तक चार्ज करने में सक्षम है।

यह मानक रूप से एशियाई क्षेत्र से कार मॉडल पर उपयोग किया जाता है।

यूरोप में यह बहुत कम है इसीलिए वहाँ बहुत कम सार्वजनिक श्रेणी 1 के चार्जिंग स्टेशन हैं।

Type 2 चार्जर प्लग

यह मुख्य रूप से यूरोप में उपयोग में लिया जाता है और इसे मानक माना जाता है।

प्राइवेट स्थानों में 22 kW की लोड रेटिंग सामान्य है।

जबकि 43 kW (400 V), चार्जिंग स्टेशन के दोनों तरफ 6 तार होते हैं जिसे Mennekes प्लग (टाइप 2) के नाम से जाना जाता है।

संयोजन प्लग (संयुक्त चार्जिंग सिस्टम CCS)

CCS प्लग टाइप 2 प्लग का ही एक नया वर्जन है। फास्ट चार्जिंग के लिए यह 2 पावर को जोड़ता है। यह 170 किलोवाट तक AC और DC चार्जिंग पावर लेवल दोनों पर काम करता है, इसका मान लगभग 50 kW होता है।

CHAdeMO

यह फास्ट चार्जिंग सिस्टम जापान में विकसित किया गया था। यह सार्वजनिक चार्जिंग स्टेशनों पर 50 किलोवाट चार्ज करने की अनुमति देता है। इसका उपयोग निसान, फ्यूजो, सुबारू, टेस्ला (कनवर्टर के साथ) और टोयोटा में किया जा सकता है।

टेस्ला सुपरचार्जर

टेस्ला Mennekes टाइप 2 का नया अपडेटेड वर्जन सुपरचार्जर के रूप में उपयोग में लेता है। जो मॉडल S को 30 मिनट में 80% तक चार्ज कर देता है। टेस्ला अपने ग्राहकों को मुफ्त चार्जिंग की पेशकश करती है। अब तक अन्य ब्रांडों के लिए यह संभव नहीं है। कारों को टेस्ला सुपरचार्जर द्वारा चार्ज किया जाता है।

घर के लिए और गैराज के लिए उपयोग में आने वाले प्लग

घरेलू सॉकेट

अपने घर में लगे हुए सॉकेट से 3.7 kW (230 V, 16 A) तक चार्ज किया जा सकता है। इसमें मोड 2 वाली चार्जिंग केबल का उपयोग कर के आपके EV को चार्ज किया जा सकता है। कभी कभी सार्वजनिक चार्जिंग स्टेशनों पर भी घरेलू बिजली के आउटलेट मिल सकते हैं। यह चार्जिंग विधि सभी इलेक्ट्रिक वाहनों के लिए उपलब्ध है।

CEE प्लग

CEE प्लग निम्नलिखित प्रकार के होते हैं-

1 फेज वाला नीला वर्जन जिसे कैंपिंग प्लग कहा जाता है। इसकी चार्जिंग क्षमता 3.7 kW (230 V, 16 A) होती है।

लाल फेज का उपयोग औद्योगिक क्षेत्र में किया जाता है।

CEE 16 प्लग का उपयोग छोटे उद्योगों में किया जाता है। जिससे 11 किलोवाट (400 V, 26 A) तक चार्ज किया जा सकता है।

CEE 32 प्लग से 22 किलोवाट (400 V, 32 A) तक चार्ज किया जा सकता है।

Wallbox चार्जर क्या है और यह कैसे काम करता है

वॉलबॉक्स इलेक्ट्रिक वाहनों के लिए चार्जिंग पॉइंट है। इन्हें घरों में या कंपनी के पार्किंग में लगाया जा सकता है। वॉल बॉक्स AC के साथ काम करते हैं। इलेक्ट्रिक कार सामान्य आउटलेट की तुलना में वॉल बॉक्स में बहुत तेजी से चार्ज होती है।

बैटरी सुरक्षा

वॉल बॉक्स सेफ्टी फीचर्स आपकी कार के प्लग इन होने पर करंट से तालमेल बिठाते हैं और कार की बैटरी को पावर सर्ज से होने वाले नुकसान से बचाते हैं।

क्षमता

यदि आप परफॉर्मेंस को मापना चाहते हैं तो आप आसानी से रोजाना या प्रत्येक सप्ताह माप सकते हैं।

इसकी तुलना भी कर सकते हैं।

इसमें आप अपनी ऊर्जा, लागत और उपयोग को नियंत्रित कर सकते हैं।

प्रोग्रामेबल

वाल बॉक्स में प्रोग्रामिंग की जा सकती है।

इसका प्रयोग कर के आप अपनी कार को सस्ते में चार्ज कर सकते हैं।

वॉल बॉक्स के लिए कितनी पावर चाहिए

आपके गैराज में लगे वॉल बॉक्स की शक्ति कार और तारों के आधार पर 2.3 से 22 किलोवाट तक होती है।

बड़े वाहन पूरी तरह से चार्ज होने में अधिक समय लेते हैं।

वॉल बॉक्स में हाई पॉवर होने से फास्ट चार्जिंग होती है।

वॉल बॉक्स की क्षमता निम्नलिखित कारकों पर निर्भर करती है:-

कार चार्जर पावर

एक ऑनबोर्ड चार्जर चार्जिंग की गति को बढ़ाते हुए वॉल बॉक्स से ज्यादा इनपुट प्राप्त कर सकता है।

कार की बैटरी की कुल क्षमता

बड़ी बैटरी को फुल चार्ज करने में अधिक समय लगता है।

वॉल बॉक्स से ज्यादा पावर मिलता जिससे फास्ट चार्जिंग होती है।

बिजली की आपूर्ति

बिजली की मात्रा जो कि किसी भी घर में लगे बिजली का सर्किट प्रदान कर सकता है।

यह सप्लाई वॉल बॉक्स द्वारा नियंत्रित रहती है। यह चार्जिंग दर को कंट्रोल करता है।

वॉल बॉक्स को लगाने में खर्चा

मजबूत वॉल बॉक्स की कीमत आमतौर पर अधिक होती है।

यदि हम अधिक फीचर्स जैसे Wi-Fi मॉनिटरिंग और प्रोग्रामेबल चार्जिंग का भी उपयोग करते हैं, तो कीमत अपने आप बढ़ जाती है।

किसी भी चार्जिंग स्टेशन को सही और सुरक्षित तरीके से लगाने के लिए अच्छे पेशेवर तकनीशियन द्वारा लगाना चाहिए।

वॉल बॉक्स को लगाने में लगने वाली लागतें

हार्डवेयर :

43500-21700 रुपये के लगभग

इंस्टॉलेशन :

70000-174000 रुपये के लगभग

वॉल बॉक्स लगाने के लिए सरकार कई तरह की योजनाओं के तहत टैक्स फ्री सब्सीडी देती है।

भारत में EV चार्जिंग स्टेशन कैसे खोलें? और उसकी फ्रेंचाइज़ी कैसे लें

इलेक्ट्रिक वाहन उद्योग का भारत में एक आशाजनक भविष्य है।

EV में विशाल क्षमता है क्योंकि यह जलवायु के अनुकूल है।

EV के क्षेत्र में भारत केंद्र बिंदु के रूप में उभर सकता है।

जिससे business और विकास में वृद्धि होगी।

अभी तक भारतीय सड़कों पर लगभग 4 लाख इलेक्ट्रिक वाहन उपयोग में हैं।आने वाले 10 वर्षों में EV बहुत तेजी से विस्तार होगा।

सूत्रों के अनुसार इलेक्ट्रिक वाहनों की बिक्री एक साल पहले कुल मिलाकर 1.1 मिलियन से बढ़कर 2025 तक 11 मिलियन हो जाएगी। बाद में 2030 तक यह संख्या 30 मिलियन हो जाएगी।

सरकार ने निर्देश दिए हैं कि देश में बिकने वाले सभी नए 3-व्हीलर 1 अप्रैल 2023 तक और 150 सीसी से कम इंजिन वाली बाइक 1 अप्रैल 2025 तक इलेक्ट्रिक होनी चाहिए।

इलेक्ट्रिक वाहनों के विस्तार से चार्जिंग स्टेशनों की मांग बढ़ेगी।

बहुत से लोगों के मन में ये डाउट रहता है कि भारत में EV चार्जिंग स्टेशन कैसे खोलें?

EV में चार्जिंग फ्रेमवर्क एक महत्वपूर्ण भूमिका निभाएगा।

एक अध्ययन में दिखाया गया है कि भारत में इलेक्ट्रिक वाहनों का हिस्सा सिर्फ 0.06% था, जो चीन में लगभग 2% और नॉर्वे में लगभग 39% था।

आज तक, अधिकांश ईवी मालिक अपने घरों या कार्यस्थलों से शुल्क लेते रहे हैं।

इसके बावजूद, जैसे-जैसे विनियोग बढ़ता है, सार्वजनिक चार्जिंग ढांचे की एक पूर्वापेक्षा होगी।

सबसे पहले, कम से कम 6,000 चार्जर वाले 1,000 आरोप लगाने वाले स्टेशन होंगे।

इसके अतिरिक्त, चार्जिंग स्टेशनों से जाली से जुड़े सोलर ओरिएंटेड PV प्रोजेक्ट्स से बिजली लेने का आग्रह किया गया है।

यह उन व्यावसायिक दूरदर्शी लोगों को एक बड़ा मौका दे रहा है, जिन्हें इस उभरते हुए ईवी बाजार में भटकने की जरूरत है।

यह भी पढ़ें :- TATA Tigor EV के स्पेसिफिकेशन, फीचर्स और कीमत

टाटा फास्ट-चार्जिंग

Tata Nexon EV 3.2 kW ऑनबोर्ड चार्जर से लैस है जो अनिवार्य रूप से AC इनपुट करंट को आवश्यक 15 A घरेलू प्लग से DC में परिवर्तित करता है ताकि ऊर्जा बैटरी में संग्रहीत हो।

Bharat EV चार्जर AC 001 मानक के अनुसार, निजी घरेलू चार्जर का उपयोग आमतौर पर 15 A (230 V) तक के सिंगल-फ़ेज़ प्लग के साथ किया जा सकता है।

जो लगभग 3 kW की शक्ति प्रदान कर सकता है।

जिसका अर्थ है कि Nexon EV अपनी 30.2 kWh बैटरी के साथ 0% से फुल चार्ज होने में लगभग 10 घंटे लगते हैं।

हालांकि, उच्च AC इनपुट पर कार को तेजी से चार्ज करने के लिए, कार चार्जर को कार में बहने वाले उच्च प्रवाह का भी समर्थन करना चाहिए।

ऐसा समझा जाता है कि टाटा मोटर्स ने जानबूझकर कार चार्जर की क्षमता को सीमित कर दिया है।

इलेक्ट्रिक कार चार्जिंग स्टेशन फ्रेंचाइजी

EV के विस्तार के साथ, चार्जिंग स्टेशनों की माँग चरम पर पहुंच जाएगी।

जबकि पहले, चार्जिंग स्टेशन सार्वजनिक प्राधिकरण द्वारा संचालित संगठनों, उदाहरण के लिए, EESL या TATA Power जैसे महत्वपूर्ण उद्योग के खिलाड़ियों द्वारा काफी अभिभूत थे, फिर भी अब टेबल बदल गए हैं।

केंद्र ने अनुमति दी है कि ओपन चार्जिंग स्टेशन स्थापित करने से अधिकृत नहीं किया जाएगा और किसी भी व्यक्ति को ओपन चार्जिंग स्टेशन स्थापित करने की अनुमति है।

उम्मीद है भारत में EV चार्जिंग स्टेशन कैसे खोलना है। आपको समझ आ गया होगा। आपके मन में भारत में EV चार्जिंग स्टेशन कैसे खोलें? कोई समस्या नहीं होगी।

Spread the love

5 thoughts on “भारत में EV चार्जिंग स्टेशन कैसे खोलें? (How to open EV Charging Station in India?) 2023”

  1. Pingback: भारत की बेस्ट इलेक्ट्रिक कारें - Electric Car Engineer

  2. Pingback: इलेक्ट्रिक वाहन क्या है। What is Electric Vehicle? - Electric Car Engineer

  3. Pingback: HPCL तीन साल में 5,000 EV चार्जिंग स्टेशन लगाएगी - Electric Car Engineer

  4. Pingback: इलेक्ट्रिक वाहन क्या है? (What is Electric Vehicle?) - Electric Car Engineer

  5. Pingback: बैटरी स्वैपिंग पॉलिसी क्या है? Battery Swapping Policy in Hindi 2022 - Electric Car Engineer

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

भारतीय बाजार में टाटा मोटर्स ने शुरू की पंच ईवी की डिलीवरी, जाने कीमत रिवोल्ट RV400 BRZ ने भारतीय बाजार में की एंट्री ,जाने कीमत रिवोल्ट मोटर्स ने लॉन्च की RV400 BRZ इलेक्ट्रिक मोटरसाइकिल, 1.38 लाख रुपये से शुरू होती है कीमत भारत की सबसे बजट फ्रेंडली इलेक्ट्रिक कारें जो देती हैं शानदार रेंज Tata Punch EV की भारत में बुकिंग शुरू, 21 हजार रुपये में कर सकते हैं बुक, टाटा ने इलेक्ट्रिक कारों के लिए acti.ev आर्किटेक्चर किया लॉन्च